“अभी तो साथ चलना है समंदरों की लहरों मॆं
.
.
.
,
. . . किनारे पर ही देखेंगे... किनारा कौन करता है?”