Shadishuda Aadmi ki Khushi

आदमी- सर, मेरी पत्नी लापता है।
डाकिया- ये डाकघर है, पुलिस थाना नहीं।
आदमी- ओह सॉरी!!! साला ख़ुशी के मारे कहाँ जाऊं समझ में नहीं आ रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *