तुम बिन ज़िंदगी सूनी सी लगती है,
हर पल अधूरी सी लगती है,
अब तो इन साँसों को अपनी साँसों से जोड़ दे,
क्योंकि अब यह ज़िंदगी कुछ पल की मेहमान सी लगती है।

Tum bin zindagi suni si lagti hai,
Har pal adhuri si lagti hai,
Ab to in saanson ko apni saanson se jodde,
Warna zindagi kuch pal ki mehmaan lagti hai

तोड़ दो न वो क़सम जो खाई है,
कभी कभी याद करलेने मैं क्या बुराई है,
याद आप को किये बिना रहा भी तो नहीं जाता,
दिल में जगा अपने ऐसी जो बनाई है.

Todh do na wo qasam jo khai hai
kabhi kabhi yaad karlene main kya burai hai
yaad aap ko kiye bina raha bhi to nahi jata
dil main jaga apne aisi jo banai hai

उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है,
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है,
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर,
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है!

Ulfat ka aksar yahi dastur hota hai.
Jise chaho wahi humse dur keyo hota hai.
Dil tut kar keyo bikharta hai is kadar.
Jaise kanch ka khilauna chur chur hota hai.

तन्हाईयों में मुस्कुराना इश्क है,
एक बात को सबसे छुपाना इश्क है,
यु तो नींद नहीं आती हमें रात भर,
मगर सोते-सोते जागना और जागते-जागते सोना इश्क है.

Tanhaiyon mein muskurana ishq hai,
Ek baat ko sab se chhupana ishq hai,
Yun to neend nahi aati hamein raat bhar,
Magar sote sote jagna or jagte jagte sona hi ishq hai.

पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं,
वो सोचते हैं की हम कभी रोये ही नहीं,
वो पूछते हैं कि ख्वाबो में किसे देखते हो,
और हम हैं की उनकी यादो में सोए ही नहीं!

Palko ko kabhi hamne bhigoya hi nahi,
Wo sochte hai kr hum kabhi roye hi nahi,
Wo puchte hai ki khwabo me kise dekhte ho,
Aur hum hai ki unki yado me soye hi nahi..!

इस कदर हम उनकी मुहब्बत में खो गए,
कि एक नज़र देखा और बस उन्हीं के हम हो गए,
आँख खुली तो अँधेरा था देखा एक सपना था,
आँख बंद की और उन्हीं सपनो में फिर सो गए!

es kadar hum unki mohabbat mein kho gaye,
ki ek nazar dekha aur bas unhi k ho gaye,
ankh khuli to andhera tha, dekha ek sapna tha,
aankh band ki aur unhi sapno me phir kho gaye.

हस्ती मिट जाती है आशियाँ बनाने मे,
बहुत मुस्किल होती है अपनो को समझाने मे,
एक पल मे किसी को भुला ना देना,
ज़िंदगी लग जाती है किसी को अपना बनाने मे..

Hasti Mit jati hai Aashiya Banane Me,
Bahut Muskil hoti hai Aapno Ko Samjane Me,
Ek pal me Kisi Ko bhula na Dena,
Zindagi lag jati hai Kisi Ko Aapna Banane me.

मौसम है बारिश का और याद तुम्हारी आती है,
बारिश के हर कतरे से आवाज़ तुम्हारी आती है,
बादल जब गरजते हैं, दिल की धड़कन बढ़ जाती है,
दिल की हर इक धड़कन से आवाज़ तुम्हारी आती है,
जब तेज हवायें चलती हैं तो जान हमारी जाती है,
मौसम है कातिल बारिश का और याद तुम्हारी आती है|

Mausam Hai Barish Ka Aur Yaad Tumhari Aati Hai,
Barish Ke Har Qatre Se Awaz Tumhari Aati Hai.
Badal Jab Garajte Hain, Dil Ki Dharkan Badh Jati Hai,
Dil Ki Har Ek Dharkan Se Awaz Tumhari Aati Hai.
Jab Tez Hawayein Chalti Hai To Jaan Hamari Jati Hai,
Mausam Hai Barish Ka Aur Yaad Tumhari Aati Hai.