शिकायत है उन्हें कि हमें मोहब्बत करना नही आता, शिकवा तो इस दिल को भी है …… पर इसे शिकायत करना नहीं आता..

दिल कहता है कि शायद किसी ने धीमे से मेरा नाम पुकारा होगा..!! और यहाँ देखो पानी मे चलता एक अन्जान साया..!!

ठहरता नही जिन्दगी का सफीना यही इस जहाँ का है अक्सर करीना है बेताब-ओ-बेचैन रहना ही जीना यह हर लहजा करती है मौजे इशारे

हमारा वजूद नहीं किसी तलवार और तख़्त-ओ-ताज का मोहताज हम अपने हुनर और होंठो की हंसी से लोगो के दिल पे राज करते हैं..