हर शाम कह जाती ह

हर शाम कह जाती है एक कहानी हर सुबह ले आती है एक नई कहानी रास्ते तो बदलते है हर दिन लेकिन मंजिल रह जाती है वही पुरानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *