हर चराग यु तो हव

हर चराग यु तो हवा की नज़र में है, पर उस रोशनी का क्या जो हम दिले हमदम में जलाये बैठे हैं ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *