हमने कब माँगा ह

हमने कब माँगा है तुमसे वफाओं का सिलसिला; बस दर्द देते रहा करो, मोहब्बत बढ़ती जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *