सारा कसूर तेरे

सारा कसूर तेरे बालो से टपकती इन बूंदों का है, जिसने मेरे ख्वाबों को दरिया बनाये रखा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *