समुद्र बड़ा होकर भी

“समुद्र बड़ा होकर भी,
अपनी हद में रहता है,
जबकि इन्सान छोटा होकर भी
अपनी हद भूल जाता है…!!!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *