शाख से फूल तोड़कर मैंने ,सीखाअच्छा होना गुनाह है ,इस जहाँ …

शाख से फूल तोड़कर मैंने ,सीखा
अच्छा होना गुनाह है ,इस जहाँ में,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *