रोज़ रौशन कर दे�

रोज़ रौशन कर देती है मुक़दर मेरा… . . रात के अँधेरे में मेरी माँ की लोरियाँ ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *