राज़ खोल देते ह

राज़ खोल देते हैं नाज़ुक से इशारे अक्सर, कितनी खामोश मोहब्बत की जुबां होती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *