रह-रह कर तेरी याद आये तो क्या करें;तुम्हारी याद दिल से न ज….

रह-रह कर तेरी याद आये तो क्या करें;
तुम्हारी याद दिल से न जाये तो क्या करें;
सोचा था ख्वाब में मुलाक़ात होगी;
इस ख़ुशी में नींद न आये तो क्या करें।
शुभ रात्रि!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *