ये गहरी लाल शाम

ये गहरी लाल शाम तेरी यादों के समंदर में पिघल रही है रौशनी की कुछ बुँदे पानी में गिरकर चिँगारी सी जल रही है…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *