मेरे घर की दर ओ

मेरे घर की दर ओ दीवार पर अब आइना नहीं जब जी करता है ख़ुद को तेरी आँखो में देख लेता हूँ!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *