मेरी आँखे झुठी

मेरी आँखे झुठी हैं या जिस्मों पर आईने हैं मेरे हमनशीं मैंने हर चेहरे पर तुझे ही देखा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *