मुलाकातें तो आज भी हो जाती हैं तुम से, मेरे ख्वाब किसी मजबूरी के मोहताज नहीं हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *