मुझको तुम खुद म

मुझको तुम खुद में छुपाओ तो छुपाना ऐसे…..किसी सागर में हों लहरों की पनाहें जैसे….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *