मिलने की चाह मे

मिलने की चाह में हर कोशिश की हमने सारी क़ायनात जैसे जुटी थी हमें मिलाने में समेट के प्यार इस प्रकृति का !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *