मंजिल की भी हसर

मंजिल की भी हसरत थी और उनसे भी मोहब्बत थी.. ए दिल तू ही बता,उस वक्त मैं कहाँ जाता…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *