बेसब्र थीये रू

बेसब्र थी ये रूह भी सिमटने को तुझमें पर ये वक़्त की बेरुख़ी का मंज़र ही था हम यादों में सिमट कर बस रह गए !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *