प्रकृति का रस ल

प्रकृति का रस लिये रंग भरती हैं जग में वो तितलियाँ ऐसे शांत मन की लहरों में एक बूँद गिरा हो इश्क़ का जैसे !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *