पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं

पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं,
वो सोचते हैं की हम कभी रोये ही नहीं,
वो पूछते हैं कि ख्वाबो में किसे देखते हो,
और हम हैं की उनकी यादो में सोए ही नहीं!

Palko ko kabhi hamne bhigoya hi nahi,
Wo sochte hai kr hum kabhi roye hi nahi,
Wo puchte hai ki khwabo me kise dekhte ho,
Aur hum hai ki unki yado me soye hi nahi..!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *