ना-उम्मीद सी हो

ना-उम्मीद सी हो रही है सब उम्मीदें…!” “दिल था किसी दिन तेरे सीने से लगकर जी भर के रोने का_______

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *