नादानियां झलकत

नादानियां झलकती है अभी भी मेरी आदतो से “मैं खुद हैरान हूँ… मुझे इश्क़ हुआ कैसे ।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *