दो किनारे कभी आ

दो किनारे कभी आपस में नही मिलते तुम साथ देने का वादा तो करो हम उस झितिज पर मिलेगे जहाँ धरती आकाश का मिलन होता हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *