देखी दरार मैंन

देखी दरार मैंने आज आईने में, पता नहीं..शीशा टूटा था, या मैं. . .! ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *