दूर से नजरों को

दूर से नजरों को मिलाना, पास आने पर पलकों का झुक जाना, जब समेटूँ अपनी बाहों में, अच्छा लगता है तेरा बहाने बनाना।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *