तेरे दिल के करीब आना चाहता हूँ मैं

तेरे दिल के करीब आना चाहता हूँ मैं,
तुझको नहीं और अब खोना चाहता हूँ मैं,
अकेले इस तनहाई का दर्द बर्दाश्त नहीं होता,
तू एक बार आजा तुझसे लिपट कर रोना चाहता हूँ मैं..

Tere Dil Ke Kareeb Aana Chahta Hoon Main,
Tujhko Nahi Aur Ab Khona Chahta Hoon Main,
Akele Iss Tanhayi Ka Dard Bardast Nahi Hota,
Tu Ek Bar Aaja Tujhse Lipat Kar Rona Chahta Hoon Main.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *