तुम्हारी खुशिय

तुम्हारी खुशियों के ठिकाने बहुत होंगे, मगर हमारी बेचैनियों की वजह बस तुम हो !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *