ठहरता नही जिन्

ठहरता नही जिन्दगी का सफीना यही इस जहाँ का है अक्सर करीना है बेताब-ओ-बेचैन रहना ही जीना यह हर लहजा करती है मौजे इशारे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *