“जो मुंह तक उड़ ��

“जो मुंह तक उड़ रही थी अब लिपटी है पाँव से, जरा सी बारिश क्या हुई मिटटी की फितरत बदल गई..!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *