ज़िन्दगी का कुछ

रखा करो नजदीकियां, ज़िन्दगी का कुछ
भरोसा नहीं फिर मत कहना चले भी गए और बताया भी नहीं. .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *