जब हों तेरी पलक

जब हों तेरी पलकों के साए, फिर डर ना किसी धूप का सताए;

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *