छतरीयाँ अब कहा

छतरीयाँ अब कहाँ अच्छी लगती है मुझे…. अब मैं भीगना चाहती हूँ….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *