चाहिए मुझे वही

चाहिए मुझे वही सुनहरी घूप चाहिए खुली हवा हवा में घुली नमी से भीगना है कब तलक पलकों की कैद में रखोगे मुझे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *