चाल जिसकी चुरा

चाल जिसकी चुरा के,हिरन वन में इठलाते है बदन की ख़ुश्बू से जिसकी गुलाब शर्माते है गर जो हँस दे तो,सरगम बजा करते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *