चलो इस भीड़ से न

चलो इस भीड़ से निकल चले कही दूर.. जहाँ हो सिर्फ़ हम तुम.. सिर्फ़ हमारा एहसास..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *