चढ़ा है तेरे इश

चढ़ा है तेरे इश्क़ का रंग इतना गहरा, लाख चाहे कोई, तो भी ना उतार सकेगा ये मोहब्बत का नज़राना…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *