ख़्वाबों में त

ख़्वाबों में तो मेरे रोज आती हो.. कभी हक़ीक़त बन कर भी आ ओ.. थोड़ा मुश्किल ज़रूर हे ,पर नामुमकिन नहि..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *