क्यों नाम दूँउसेबेवफ़ा कावो तो वक़्तथाजिसे मेरी हँ….

क्यों नाम दूँ
उसे
बेवफ़ा का
वो तो वक़्त
था
जिसे मेरी हँसी
देखी नही गयी !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *