“कैसे बयान करुं

“कैसे बयान करुं सादगी मेरे महबूब की, पर्दा हमी से था मगर नजर हम पर ही थी.!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *