कैसे करें हम ख़

कैसे करें हम ख़ुद को तेरे काबिल……! जब हम आदतें बदलतें हैं….. तुम शर्तें बदल देते हो…..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *