कितना ही सुलझ ज�

कितना ही सुलझ जायें,,अपने से हम … ये जिंदगी अपनी बातों में हमें,,कभी-कभी उलझा ही लेती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *