कल के नौसखिए..सिकंदर हो गए..!

कल के नौसखिए..सिकंदर हो गए..!
हल्की हवा के झोंके..बवंडर हो गए..!
मै लड़ता रहा..उसूलों की पतवार थामें..!
मै कतरा ही रहा..लोग समन्दर हो गए..!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *