ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे

ज़मीं पर रह कर आसमां
को छूने की फितरत है मेरी,
पर गिरा कर किसी को,
ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे

Zami per rah kar..
asma ko chune ki fitrat hai meri.
par gira kar kisi ko..
Uper uthane ka shook nahi mujhe.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *