अल्फ़ाज़ चुरान

अल्फ़ाज़ चुराने की ज़रूरत ही ना पड़ी कभी; तेरे बे-हिसाब ख्यालों ने बे-तहाशा लफ्ज़ दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *