अपनी बहारो को र

अपनी बहारो को रंगीन बना लूंगा पलको पे अपनी तुम्हे बिठा लूंगा एकबार तुम मेरे पास आजाओ शबनम की तरह गुलशन में बिखर जाओ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *