अधूरी हसरतों क��

अधूरी हसरतों का आज भी इलज़ाम है तुम पर, अगर तुम चाहते तो ये मोहब्बत ख़त्म ना होती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *